1. Home
  2. हिंदी
  3. खेल
  4. भारतीय फुटबॉल को झटका : फीफा ने एआईएफएफ को निलंबित किया, अंडर-17 महिला विश्व कप की मेजबानी भी छिनी
भारतीय फुटबॉल को झटका : फीफा ने एआईएफएफ को निलंबित किया, अंडर-17 महिला विश्व कप की मेजबानी भी छिनी

भारतीय फुटबॉल को झटका : फीफा ने एआईएफएफ को निलंबित किया, अंडर-17 महिला विश्व कप की मेजबानी भी छिनी

0

नई दिल्ली, 16 अगस्त। विश्व फुटबॉल को संचालित करने वाली सर्वोच्च संस्था फीफा (FIFA) भारत को बड़ा झटका देते हुए ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (AIFF) को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। फीफा ने भारतीय फुटबॉल के संचालन में थर्ड पार्टी के अनुचित प्रभाव का हवाला देते हुए यह फैसला किया है। इस निलंबन का यह दुष्परिणाम हुआ कि इसी वर्ष अक्टूबर में भारत में प्रस्तावित FIFA अंडर-17 महिला विश्व कप 2022 की मेजबानी भी स्वतः छिन गई है।

अनुचित हस्तक्षेपकी वजह से किया गया निलंबित

दरअसल, फीफा ने अपने बयान में कहा कि परिषद के ब्यूरो ने सर्वसम्मति से एआईएफएफ को ‘अनुचित हस्तक्षेप’ की वजह से तत्काल प्रभाव से निलंबित करने का फैसला लिया है। यह फीफा के नियमों का गंभीर उल्लंघन है। फीफा ने कहा है कि एआईएफएफ कार्यकारी समिति की शक्तियों को ग्रहण करने के लिए प्रशासकों की एक समिति गठित करने के आदेश के निरस्त होने और एआईएफएफ प्रशासन द्वारा दैनिक मामलों पर पूर्ण नियंत्रण हासिल करने के बाद निलंबन हटा लिया जाएगा।

अंडर-17 महिला विश्व कप की मेजबानी नहीं कर सकेगा भारत

फीफा के इस बयान में कहा गया है कि निलंबन का मतलब है कि भारत में 11-30 अक्टूबर 2022 तक प्रस्तावित FIFA अंडर-17 महिला विश्व कप 2022 का आयोजन भी नहीं हो सकेगा। हालांकि, फीफा ने कहा कि वह टूर्नामेंट के संबंध में अगले कदमों का आकलन कर रहा है और जरूरत पड़ने पर इस मामले को ब्यूरो में भेजा जाएगा। वैश्विक संस्था ने यह भी कहा कि वह भारत के खेल मंत्रालय के साथ लगातार संपर्क में है और उम्मीद है कि मामले का सकारात्मक परिणाम आ जाएगा।

सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को होगी सुनवाई

दरअसल, फीफा ने इस महीने की शुरुआत में ही तीसरे पक्ष के हस्तक्षेप के कारण एआईएफएफ को निलंबित करने की धमकी दी थी। यह चेतावनी एआईएफएफ के चुनाव कराने के सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के कुछ ही दिनों बाद दी गई थी। 28 अगस्त को एआईएफएफ के चुनाव होने हैं। इस मामले में बुधावार, 17 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई है।

 

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published.