1. Home
  2. हिंदी
  3. खेल
  4. फीफा विश्व कप : नीदरलैड्स ग्रुप ए में शीर्षस्थ, सेनेगल की दो दशक बाद नॉकआउट दौर में वापसी
फीफा विश्व कप : नीदरलैड्स ग्रुप ए में शीर्षस्थ, सेनेगल की दो दशक बाद नॉकआउट दौर में वापसी

फीफा विश्व कप : नीदरलैड्स ग्रुप ए में शीर्षस्थ, सेनेगल की दो दशक बाद नॉकआउट दौर में वापसी

0

दोहा, 29 नवम्बर। नीदरलैंड्स और सेनेगल ने मंगलवार को यहां ग्रुप ए के अपने अंतिम लीग मैचों में जीत दर्ज कर फीफा विश्व कप फुटबॉल टूर्नामेंट के अंतिम 16 में जगह बना ली। नीदरलैंड्स ने मेजबान कतर को 2-0 से हराकर जहां ग्रुप ए में सर्वोच्च स्थान पाया वहीं अफ्रीकी चैंपियन सेनेगल ने इक्वेडोर को 2-1 से पराजित कर विश्व कप के नॉकआउट दौर में दो दशक बाद वापसी की। अंतिम बार 2002 विश्व कप में सेनेगल को नॉकआउट दौर में खेलने का अवसर मिला था।

नीदरलैंड्स ने ग्रुप में दो जीत और एक ड्रॉ के साथ सबसे ज्यादा सात अंक बटोरे। उसने अपने पहले मैच में सेनेगल को 2-0 से हराया था जबकि इक्वेडोर के साथ उसकी मुलाकात 1-1 बराबर रही थी। वहीं सेनेगल ने दो जीत से छह अंकों के सहारे दूसरे स्थान पर रहा। उसने अपने दूसरे मैच में कतर को 3-1 से मात दी थी। नीदरलैंड्स अब अंतिम 16 के मुकाबलों में ग्रुप बी से दूसरे स्थान पर रहने वाली टीम से खेलेगा जबकि सेनेगल ग्रुप बी की विजेता टीम से भिड़ेगा।

ग्रुप चरण के तीनों मैच गंवाने वाला विश्व कप का पहला मेजबान देश बना कतर

उधर इक्वेडोर को अंतिम 16 में प्रवेश के लिए आज के मैच में ड्रॉ की जरूरत थी, लेकिन हार के कारण वह चार अंकों के साथ टूर्नामेंट से बाहर हो गया। उसने पहले मैच में कतर को 2-0 से हराया था जबकि कतर विश्व कप फुटबॉल के इतिहास में पहला मेजबान देश बन गया है, जिसने ग्रुप चरण के अपने तीनों मैच गंवाए।

अल खोर शहर के अल बायत स्टेडियम में खेले गए मैच में नीदरलैंड्स ने कतर के खिलाफ दोनों हाफ में एक-एक गोल किया। उसको कोडी गक्पो ने 26वें मिनट में बढ़त दिलाई जबकि फ्रैंकी डी जोंग ने 49वें मिनट में टीम के लिए दूसरा गोल किया।

लगातार 3 विश्व कप मैचों में गोल करने वाले चौथे डच फुटबॉलर बने गक्पो

हालांकि कतर ने शुरू में नीदरलैंड्स को बांधे रखा, लेकिन कोडी गक्पो ने पिछले दो मैचों की तरह फिर अपनी टीम को शुरुआती बढ़त दिलाई। वह नीदरलैंड्स के चौथे ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने विश्व कप में लगातार तीन मैचों में गोल किए। उनसे पहले जोहान नीस्केन्स (1974), डेनिस बर्गकैम्प (1994) और वेस्ले स्नेजिडर (2010) ने यह कारनामा किया था।

डैवी क्लासेन ने मूव बनाकर गक्पो की तरफ गेंद बड़ाई, जिन्होंने उसे गोल में डालने में कोई गलती नहीं की। इस गोल के साथ गक्पो इटली के एलेसेंड्रो अल्टोबेली (1986) के बाद दूसरे से खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने ग्रुप चरण के तीनों मैच में अपनी टीम की तरफ से पहला गोल किया।

नीदरलैंड्स ने दूसरा हाफ शुरू होने के तुरंत बाद ही अपनी बढ़त 2-0 कर दी। उसकी तरफ से यह गोल डी जोंग ने रिबाउंड पर किया। क्लासेन के क्रास पर डीपे ने शॉट जमाया, जिसे कतर के गोलकीपर बरशाम ने रोक दिया, लेकिन गेंद डी जोंग के पास पहुंच गई। उनके सामने तब कोई खिलाड़ी नहीं था और उन्होंने आसानी से गोल कर दिया।

इक्वेडोर के खिलाफ कोलिबाली ने किया सेनेगलका निर्णायक गोल

उधर अर रेयान शहर के खलीफा इंटरनेशनल स्टेडियम में सेनेगल की तरफ से इस्मालिया सार ने 44वें मिनट में पेनाल्टी को गोल में बदला। टीम के लिए दूसरा गोल कालिडू कोलिबाली ने 69वें मिनट में किया। इक्वेडोर के लिए एकमात्र गोल मोएजेस कैसीडो ने 67वें मिनट में किया।

सेनेगल शुरू से ही इक्वाडोर पर हावी रहा। उसने कुछ अच्छे मौके बनाए, हालांकि उसको पहली सफलता पहले हाफ के अंतिम क्षणों में मिली। पहला हाफ समाप्त होने से तनिक पहले पियरो हिनकैपी ने सार को बॉक्स के अंदर नीचे गिराया, जिस पर रेफरी ने सेनेगल को पेनाल्टी देने में कोई हिचकिचाहट नहीं दिखाई। सार ने आसानी से पेनाल्टी को गोल में बदलकर अपनी टीम को 1-0 से आगे किया।

हालांकि कैसीडो ने 67वें मिनट कॉर्नर किक पर गोल करके इक्वेडोर को बराबरी दिला दी थी, लेकिन उसकी यह खुशी क्षणिक रही क्योंकि इसके दो मिनट बाद ही कालिडू कोलिबाली ने सेनेगल को फिर से बढ़त दिला दी। इक्वाडोर ने इसके बाद गोल करने के अथक प्रयास किए लेकिन सेनेगल ने अपनी पूरी ताकत गोल बचाने में लगा दी, जिसमें वह सफल भी रहा।

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published.