1. Home
  2. हिंदी
  3. खेल
  4. रणजी ट्रॉफी फाइनल : यश दुबे और शुभम शर्मा के शतकीय प्रहार, पहली पारी में मध्य प्रदेश की मुंबई पर बढ़त तय
रणजी ट्रॉफी फाइनल : यश दुबे और शुभम शर्मा के शतकीय प्रहार, पहली पारी में मध्य प्रदेश की मुंबई पर बढ़त तय

रणजी ट्रॉफी फाइनल : यश दुबे और शुभम शर्मा के शतकीय प्रहार, पहली पारी में मध्य प्रदेश की मुंबई पर बढ़त तय

0

बेंगलुरु, 24 जून। सलामी बल्लेबाज यश दुबे (133 रन, 336 गेंद, 14 चौके) और शुभम शर्मा (116 रन, 215 गेंद, एक छक्का, 15 चौके) के बहुमूल्य शतकीय प्रहारों से मध्य प्रदेश ने रिकार्ड 41 बार के चैंपियन मुंबई के खिलाफ यहां खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी फाइनल की पहली पारी में अपनी बढ़त सुनिश्चित कर ली है।

मुंबई से एमपी सिर्फ छह रन पीछे

एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में देश की शीर्ष घरेलू क्रिकेट प्रतियोगिता के खिताबी मुकाबले में तीसरे दिन का खेल खत्म हुआ तो मुंबई के 374 रनों के जवाब में मध्य प्रदेश ने 123 ओवरों में सिर्फ तीन विकेट पर 368 रन बना लिए थे। यानी एमपी को पहली पारी में बढ़त हासिल करने के लिए सिर्फ सात रनों की दरकार है। स्टम्प्स के वक्त रजत पाटीदार (नाबाद 67 रन, 106 गेंद, 13 चौके) और कप्तान आदित्य श्रीवास्तव (नाबाद 11 रन, 33 गेंद, एक चौका) क्रीज पर उपस्थित थे।

इतिहास में पहली बार रणजी ट्रॉफी जीतने की राह पर एमपी

मुकाबले की मौजूदा तस्वीर यही कहती है कि मध्य प्रदेश पहली बार रणजी ट्रॉफी जीतकर इतिहास रचने की राह पकड़ चुका है। वजह, मध्य प्रदेश के अभी सात विकेट शेष हैं और पूरे दो दिनों का खेल शेष है। यह देखना दिलचस्प रहेगा कि मध्य प्रदेश के बचे बल्लेबाज अपनी बढ़त कितनी दूर तक ले जाते हैं। बचे समय में यदि मैच का फैसला नहीं हुआ तो प्रथम पारी की बढ़त के आधार पर चैंपियन का फैसला होगा।

मध्य प्रदेश 23 वर्ष पहले खेल चुका है एकमात्र फाइनल

मध्य प्रदेश ने 23 वर्ष पूर्व यानी वर्ष 1998-99 में पहली बार फाइनल तक का सफर तय किया था, जहां उसे कर्नाटक के हाथों पराजय झेलनी पड़ी थी। वहीं दूसरी तरफ मुंबई भले ही 41 बार का चैंपियन हैं, लेकिन उसे अंतिम खिताबी सफलता 2016 में मिली थी। यानी वह भी पिछले छह वर्षों से खिताब की तलाश में भटक रहा है।

यश व शुभम के बीच 222 रनों की पासापलट भागीदारी

मैच की बात करें तो यश दुबे व शुभम ने 1-123 से एमपी की पारी आगे बढ़ाई और 222 रनों की बेशकीमती द्विशतकीय भागीदारी से रंग जमा दिया। शुभम को मोहित अवस्थी ने 90वें ओवर में बोल्ड किया तो रजत पाटीदार ने यश के साथ मोर्चा संभाल लिया।

रजत पाटीदार संग भी यश ने 72 रन जोड़े

यश व रजत ने 72 रनों की भागीदारी से स्कोर 341 रनों तक पहुंचा दिया, तभी शम्स मुलानी ने 112वें ओवर में यश को विकेट के पीछे कैच करा उनकी बहुमूल्य पारी का समापन किया और मुंबई को दिन की मात्र दूसरी सफलता दिलाई।

स्कोर कार्ड

हालांकि रजत व आदित्य ने बचे समय में अन्य कोई क्षति नहीं होने दी और अपनी टीम को बढ़त के एकदम करीब ला खड़ा किया। इन दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए 27 रन जुड़ चुके हैं। मुंबई के लिए शम्स मुलानी, तुषार देशपांडेय और मोहित अवस्थी ने एक-एक सफलता के लिए अब तक क्रमशः 117, 73 और 53 रन खर्च किए हैं।

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published.