1. Home
  2. हिंदी
  3. चुनाव
  4. यूपी चुनाव : मुजफ्फरनगर में जयंत संग संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले अखिलेश – 15 दिनों में करेंगे गन्ने का भुगतान
यूपी चुनाव : मुजफ्फरनगर में जयंत संग संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले अखिलेश – 15 दिनों में करेंगे गन्ने का भुगतान

यूपी चुनाव : मुजफ्फरनगर में जयंत संग संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले अखिलेश – 15 दिनों में करेंगे गन्ने का भुगतान

0

मुजफ्फरनगर, 28 जनवरी। उत्तर प्रदेश में जारी चुनावी गहमा गहमी के बीच शुक्रवार को समाजवादी पार्टी के मुखिया और आरएलडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान अखिलेश ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि उसने अपने घोषणापत्र में किए वादे पूरे नहीं किए। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि 2022 में अच्छी सरकार होगी।

सपा सरकार आई तो यूपी में कोई भी काला कानून लागू नहीं हो सकेगा

अखिलेश ने चौधरी चरण सिंह के किसानों को लेकर उज्ज्वल सपने की बात करते हुए कहा कि बीजेपी सरकार ने चौधरी साहब के सपने को तोड़ा है। उन्होंने कहा, ‘मैं और जयंत चौधरी, हम दोनों किसानों के बेटे हैं और किसानों के हकों के लिए आखिरी तक लड़ेंगे। हमारी सरकार आती है तो यूपी में कोई भी काला कानून लागू नहीं हो सकेगा।’

किसानों के लिए एमएसपी पर खरीद के लिए इंतजाम किए जाएंगे

सपा मुखिया  ने कहा, ‘अगर हम सरकार में आते हैं तो 300 यूनिट बिजली फ्री देंगे, सिंचाई के लिए बिजली माफ होगी। किसानों के लिए एमएसपी पर खरीद के लिए इंतजाम किए जाएंगे। गन्ने के भुगतान के लिए उन्हें इंतजार न करना पड़े, इसके लिए फार्मर कॉरपस फंड और फॉर्म रिवाल्विंग फंड बनाएंगे। सपा सरकार में किसानों को गन्ने के भुगतान के लिए 15 दिनों से ज्यादा का इंतजार नहीं करना पड़ेगा।’

हेलीकॉप्टर को रोकने का केंद्र सरकार पर लगाया आरोप

दरअसल, अखिलेश यादव और आरएलडी अध्यक्ष जयंत चौधरी को दो साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी थी। लेकिन वह अपने तय समय पर नहीं हो सकी। इसकी वजह यह था तनिक पहले अखिलेश ने केंद्र सरकार पर आज उनके हेलीकॉप्टर को रोककर रखने का आरोप लगाया। दिन में एक बजे मुजफ्फरनगर में उनकी प्रेस कॉन्फ्रेंस थी, लेकिन वह करीब ढाई बजे तक दिल्ली में ही थे। हालांकि कुछ समय बाद उन्होंने मुजफ्फरनगर के लिए उड़ान भरी।

ज्ञातव्य है कि यूपी में समाजवादी पार्टी और आरएलडी साथ मिलकर चुनावी मैदान में है। इस गठबंधन में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी), जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट),अपना दल (कमेरावादी), प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया), महान दल एवं टीएमसी भी शामिल हैं।

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published.